SIP Kya Hai?

 

Contents hide
1 SIP Kya Hai? in Hindi
1.2 SIP के लाभ और हानि

SIP Kya Hai? in Hindi

परिचय (Introduction)

क्या आप एक ऐसा बेहतर निवेश उपाय ढूंढ़ रहे हैं जो आपकी आय को बढ़ाने के साथ-साथ आपकी निवेश को भी सुरक्षित बनाए रखे? अगर हां, तो SIP आपके लिए एक सुनहरा मौका दे सकता है। SIP (Systematic Investment Plan) एक ऐसी निवेश है जो नियमित रूप से निवेशकों को अपनी आय का कुछ हिस्सा निवेश करने की सुविधा प्रदान करता है।आज के technology की इस दुनिया में बहुत से ऐसे लोग जो अपने पैसे को निवेश तो करना चाहते है लेकिन उनको पता नहीं है।की पैसे को कैसे निवेश किया जाइये। और कहा निवेश किया जाइये तो आइये आज हम जानते है एक नये निवेश का तरीका जिसका नाम है SIP है।आखिर SIP Kya Hai? यह कैसे काम करता है?

क्या आपको पता है की आप अपनी आय को save करते हुए आप अपनी investment स्टार्ट कर सकते है. और अपनी सपनो को पूरा कर सकते है अगर हां, तो आपके लिए SIP (सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) एक बेहद उपयोगी निवेश विकल्प हो सकता है।SIP एक investment strategy है जहां पर आप एक नियमित अंतराल पर निवेश करते है. यह आपको छोटे amount और बड़े amount से इन्वेस्ट करने का मौका देता है. यहां आप weekly, Monthly, Quarterly या फिर Yearly इन्वेस्ट कर सकते है.

SIP Kya Hai?  विस्तार से जानिए”

बहुत से लोगो को पता नहीं होगा की SIP Kya Hai? और यह कैसे काम करता है?ये सवाल सभी नये इन्वेस्ट के मन में आता है.SIP का मतलब होता है systematic investment plan इसके माध्यम से Asset Management Company (AMC) अपना फण्ड लॉन्च करती है और छोटे और बड़े  निवेश उस फण्ड में निवेश करते है.SIP के माध्यम से Asset Management Company (AMC) आम जनता,छोटे और बड़े निवेशको का पैसा स्टॉक मार्किट में अपने फण्ड के माध्यम से इन्वेस्ट करती है और उनके पैसे को manage करती है.और  फण्ड को  मैनेज करने  लिए एक नॉर्मल चार्ज  लेती है.,जिसे आप कमिशन  भी बोल सकते हो.इस तरह SIP काम करता है. अलग अलग Asset Management Company (AMC) और फण्ड का चार्जेज अलग अलग हो सकता है।

Top Asset Management Company (AMC) जिसमे आप SIP कर सकते है।

1 एसबीआई फण्ड व्यवस्थापक (SBI फंड)

2 हेडज फंड व्यवस्थापक (HDFC फंड)

3 आइसीआईसीआई प्रूडेंशियल फंड व्यवस्थापक (ICICI प्रूडेंशियल फंड)

4 आडिटलवाइजर फंड व्यवस्थापक (Aditya Birla सनलाइफ फंड)

5 कोटक महिंद्रा फंड व्यवस्थापक (Kotak Mahindra फंड)

6 टाटा व्यापारिक वित्तीय सेवा फंड व्यवस्थापक (Tata व्यापारिक वित्तीय सेवा फंड)

7 एचडीएफसी स्टैंडर्ड चार्टर्ड फंड व्यवस्थापक (HDFC स्टैंडर्ड चार्टर्ड फंड)

8 कानन व्यापारिक वित्तीय सेवा फंड व्यवस्थापक (Kotak व्यापारिक वित्तीय सेवा फंड)

9 डीएचएफसी प्रूडेंशियल फंड व्यवस्थापक (DHFL प्रूडेंशियल फंड)

10 एक्सल फंड व्यवस्थापक (Axis फंड)

यहां AMC का लिंक है जहा पे आप जा कर इनके बारे में ज्यादा Information ले सकते है..

https://www.sbimf.com/mutual-fund/equity-mutual-funds

https://www.hdfcfund.com/

SIP Kya Hai? जाने कैसे अपनी आर्थिक और वित्तीय लक्ष्य को पा सकते है SIP द्वारा।

SIP में इन्वेस्ट करने के 5 Most लोकप्रिय तरीका

 Regular SIP (नियमित एसआईपी)

नियमित एसआईपी के द्वारा जब आप SIP करते है तो आप को लम्बे समय तक या एक निचित समय तक SIP कर सकते है. आप नियमित रूप से Weakly monthly, या Yearly SIP कर सकते है. जो भी फण्ड का आप चुनाव करते है उस फण्ड में एक निचित राशि इन्वेस्ट करते है।

1.Regular SIP (नियमित एसआईपी) द्वारा जिनते पैसे का sip ओपन किया है बाद में अमाउंट चेंज नहीं कर सकते है. आपको लगातर उतने’ पैसे निवेस्ट करने पड़ेगे। ये amount per month, per weak, या फिर yearly हो सकता है.

2. Flexible SIPS (फ्लेक्सी एसआईपी)

Flexible SIP जब आप करते है तो इसमें आप एक निचित amount से SIP स्टार्ट करते है इस SIP के माध्यम से आप को लगता की अभी SIP में पैसे कम डालने चाहिए तो कम कर सकते है. या बढ़ा सकते है इसलिए इसे Flexible SIP कहा जाता है. इसमें आप का बहुत ज्यादा नियंत्रण होता SIP पर।

3. Top-up SIPS (टॉप-अप एसआईपी)

जब आप टॉप-अप एसआईपी स्टार्ट करते है तो इस SIP के माध्यम से आप को अनुमति दी जाती है की आप अपने SIP के अमाउंट changes कर सकते है. एक निचित समय अंतराल बाद SIP के अमाउंट पैसा जोड़ सकते है। इसे ही Top-up SIP (टॉप-अप एसआईपी) कहा जाता है.

4. Trigger SIPS (ट्रिगर एसआईपी)

Trigger SIP (ट्रिगर एसआईपी) निवेश का एक ऐसा तरीका है जहाँ पे आप मार्किट का Wait करते है. जब NAV एक निचित स्तर पर आता है तब आप इन्वेस्ट करते है. इससे Trigger SIP (ट्रिगर एसआईपी) कहा जाता है.

5. Perpetual SIP (सतत एसआईपी)

Perpetual SIP (सतत एसआईपी) निवेश का एक ऐसा तरीका है जिस में निवेसक जितना चाहे उतने लम्बे समय तक इन्वेस्ट कर सकता है. यह निवेशक तैय करता है की उसको कब sip रोकनी है. जब लगता निवेशक को की अब सिप रोक देना चाहिए तब निवेशक फण्ड हॉउस को निर्देश देकर रोक सकता है.ये 5 पॉइंट से आप समझ गाइये होंगे की SIP Kya Hai? कैसे काम करता है?

SIP के लाभ और हानि 

SIP के 8 Most Important लाभ

1)Rupee cost averaging (रुपये की औसत लागत) की सुबिधाप्रदान करता है: –
इसका मतलब है कि जब आप निवेश करते हैं, तो यह आपको बाजार के माध्यम से निवेश की औसत मूल्य की खरीदारी करने की अनुमति देता है। इससे आपका investment Average हो जाता है. और आपका Return बढ़ हो जाता है.

2)Regular निवेश की आदत: –
यह नियमित investment की आदत को प्रदान करता है. जिससे से आपका इन्वेस्टमेंट बढ़ जाता है और Profit भी बड़ा दिखाइए देता है. और आपको नियमित SIP करते रहने को प्रेरित करता है.  यह नियमितता को बनाए रखने में मदद करता है और वित्तीय लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है।

3)मार्केट वोलेटिलिटी (Market Volatility) को नियंत्रित करना: –
जब आप निवेश करना स्टार्ट करते है तो मार्किट में कई बार Volatility बहुत ज्यादा होता है उस समय पर SIP चलता (Continue) होता है जिसे हम रोकते नहीं है. इससे हमरा पोर्टफोलियो Average हो जाता है. और हमारे इन्वेस्ट पर कोई बड़ा असर नहीं होता है. जिसे मार्केट वोलेटिलिटी (Market Volatility) control में होता है और प्रॉफिट ज्यादा होता है.

4)SIP Easy सुबिधा देता है: –
SIP में’आपको निवेश करने के लिए बड़ी राशि की जरुरत नहीं पड़ती है, बल्कि छोटे-मोटे निवेशों के माध्यम से बचत कर के sip लम्बे समय तक चला सकते है। यह नये छोटे और बड़े निवेशकों के लिए एक आसान और सुलभ निवेश के विकल्प प्रदान करता है. ये आपको flexibility प्रदान करता है, आप चाहे तो weekly, Monthly, yearly SIP स्टार्ट कर सकते है. इससे आप समझ सकते है की SIP kya hai? और कितना आसान है इन्वेस्ट करना

5)निवेश seriousness: –
जब आप एक बार SIP स्टार्ट कर लेते है तो आप अपने पोर्टफोलियो हर दिन बार बार ट्रैक करने की जरूरत नहीं होती है और जो amount का आप SIP स्टार्ट करा रखा है उतने पैसे आपके बैंक अकाउंट से SIP का जो डेट set होगा उस डेट पे Amount कट हो जाइएगा जिस से आपके नियमित निवेश करने की एक आदत सी हो जाती है इससे लम्बे समय में आप को अच्छा Return मिलता है.

6)समय की बचत: –
SIP आपको समय बचत की सुविधा प्रदान करता है। आपको निवेश करने के लिए अलग-अलग टाइम Frame प्रदान करता है. जिसमे आप अपने अनुसार निवेश करते है. आप अपने आय के आधार पे निवेश करते है. और यह आपको समय के साथ स्थिर और नियमित रूप से निवेश की आदत डालने में मदद करता है।

7)आर्थिक सुरक्षा: –
SIP आपको आर्थिक सुरक्षा की सुविधा प्रदान करता है। इसके माध्यम से आपका निवेश विभिन्न सेक्टर में होता है. जो आपके risk को कम कर देता है जीस से आपकी इन्वेस्ट को और आपको एक आर्थिक सुरक्षा प्रदान करता है.

8)लंबे समयावधि में बचत: –
SIP का एक अधिक महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह आपको लंबे समयावधि में बचत करने का अवसर प्रदान करता है। इसके माध्यम से आप धीरे-धीरे निवेश करते हैं और वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करते है. यह आपको लम्बे समय में एक अच्छा Return देता है. जिससे आप अपने Financial प्लान को successful कर सकते है। यह आपको दीर्घकालिक निवेश योजना बनाने में और Financial स्थिरता की सुरक्षा करने में मदद करता है।

SIP के 4 हानिया जिसे जानें

1)बाजार की उछाल: –
निवेश को ये बात पता होना चाहिए किये की जब स्टॉक मार्किट volatile होता है तब आपका फण्ड भी बहुत ज्यादा volatile होता है. जिसे से आप का फण्ड कभी ज्यादा profit तो कभी कम profit तो कभी negative Return दिखाई देता है. एक सामान Return दिखाई नहीं देता है. इसके वजह से आपको नुकसान हो सकता है।

2)निवेशकीय नीतियों की अवहेलना: –
अगर आप अपने नीतियों पर, फण्ड के नियम के अनुसार और आप अपने वित्तीय लक्ष्य अनुसार इन्वेस्ट नहीं करेंगे तो नुकसान होगा.

3)Emergency फण्ड: –
अगर निवेश के पास emergency फण्ड नहीं और तो उसे अचानक आपातकालीन आवश्यकताओं के समय निवेश निरस्त करने की जरूरत हो सकती है।इसके वजह से आपको नुकसान हो सकता है. इसलिए इमरजेंसी फण्ड पहले से रखना चाहिए

4)निवेश उद्देश्य की अस्पष्टता:
समय के साथ निवेशक के लक्ष्य और आवश्यकताएं बदल सकती हैं इस लिए आप को अपना उद्देश्य स्पष्ट होना चाहिए। ताकि आप का जो वित्तीय लक्ष्य पूरा हो सके आप के SIP से।

लम्प सम इन्वेस्टमेंट (Lump Sum Investment) SIP Kya Hai?

इस मेथड में सिंगल payment करते है इसमें एक साथ अपने वित्तीय लक्ष्य के हिसाब और अपने रिस्क के हिसाब से Lump Sum amount invest करते है। इस मेथड में अमाउंट फिक्स नहीं होता है आप के पास जब भी पैसा होता और आप इन्वेस्ट करना चाहते है तो आप इन्वेस्ट कर सकते है

Lump Sum SIP के लाभ और हानि

1)संभवतः उच्च रिटर्न मिल सकता है.
2)मार्किट को टाइम करने की आवश्यकता नहीं है
3)जितना जल्दी हो आप पैसे को काम पे लगा सकते है.
4)इसमें ये भी possible की की आप अपने SIP को लगातर नहीं चला सकते.
5)Return कम मिल सकता है.
6)आप flexible होते है कभी भी पैसे निकले के लिए जिससे आप का निवेशक और Target पूरा नहीं हो पता है.

SIP में Invest करने के दो Powerful एंड easy तरीका

SIP में निवेश दो तरह से कर सकते है.
1) Dement Account से SIP Start करना
2) Without(बिना) Dement से SIP Start करना

Dement Account से SIP Start कैसे करे ?

Dement Account से SIP में निवेश के लिए सबसे पहले आपके पास Dement account खोलना बहुत जरुरी होता है इसके माध्यम से आप SIP स्टार्ट कर सकते है और कभी भी स्टॉप कर सकते है Dement Account से किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड में Direct निवेश कर सकते और कभी भी निकाल (Withdraw) सकते है और Dement Account से आप स्टॉक SIP और ट्रेडिंग दोनों कर सकते है.

Example: -Zerodha ,5Paisa, Upstox ये कुछ Discount brokers है जहा पे आप जा कर अपना Dement Account खोल सकते है.
Dement अकाउंट खोलने के लिए सबसे पहले आपको Document Required होगा
*आधार कार्ड (Aadhaar Card)
*पैन कार्ड (PAN Card),
*बैंक Account
*कैंसिल चेक
ये Document के साथ आसानी से आप ऑनलाइन अपना डेमेन्ट अकाउंट खोला सकते है और आसानी से 2 से 3 दिन में आपका अकाउंट खुल जाता है. फिर आप अपने Dement अकाउंट से म्यूच्यूअल फण्ड SIP, stock SIP, और स्टॉक की ट्रेडिंग भी कर सकते है.

डेमेण्ट अकाउंट खोलने के बाद म्यूच्यूअल फण्ड और अपनी SIP निवेश की राशि को चुनें:
एक बार जब खाता खुल जाता है, तो निवेशक को अपने अनुसार SIP फण्ड और amount चुन सकते है । फिर निवेशक अपनी Financial लक्ष्यों को धयान में रख कर अपने आय के आधार पर निवेश करना स्टार्ट कर सकते है ।

Zerodha एक reputed डिस्काउंट ब्रोकर है. जहां पे डेमेन्ट अकॉउंट ओपन करा सकते है: –

https://zerodha.com/?c=MA4243&s=CONSOLE

Without (बिना) Dement अकाउंट से SIP कैसे करे ?

Without (बिना) Dement अकाउंट से SIP करने के लिए आपको ऑनलाइन या ऑफलाइन किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड के वेबसाइट जाकर अपना SIP  करा सकते है या किसी नजदीकी सब  ब्रोकर के पास जा कर अपना sip स्टार्ट करा सकते है.यहां  पे भी आपको सबसे पहले अकाउंट खोलना होगा इसके लिए  जरुरी Document की जरुरत होगी जैसी की आधार कार्ड,पेन कार्ड,बैंक अकाउंट पासपोर्ट साइज फोटों,
जब आप का अकाउंट खुल जाता है फिर आप अपने फण्ड का चयन करते है उसके बाद अपने रिस्क प्रोफाइल के अनुसार SIP स्टार्ट कर देते  है।और आप किसी experts की सलाह लेकर भी  निवेश स्टार्ट कर सकते है।

मोबाइल App से SIP करे।

बहुत से लोगो को ये पता नहीं है की SIP Kya Hai? क्या मोबाइल App से SIP कर सकते है? मोबाइल APP से SIP कैसे स्टार्ट करते है? इसके लिए सभी ब्रोकर और AMC का मोबाइल App होता जब आपका अकाउंट ओपन हो जाता है तो आप मोबाइल से SIP कर सकते है.मन लो की आप ने डीमेट अकाउंट से SIP स्टार्ट किया
उदाहरण के लिए अपने zerodhaडिस्काउंट ब्रोकर के साथ SIP स्टार्ट किया तो आप को एक App मिलेगा जिसका नाम Zerodha coin है। यहां पर आप सारा Details देख सकते है।आप का फण्ड कैसा perform कर रह है, अपने कितना इन्वेस्ट किया है, आप का SIP का अगला डेट क्या होगा,
ये सभी जानकारी आप को मोबाइल app पे मिल जाती है.

इसी तरह चाइये आप ऑनलाइन या ऑफलाइन SIP करते है आप को उस ब्रोकर का या Asset Management Company (AMC) का App मिल जाता है. जिसे आप आसानी से हैंडल कर सकते है. ये इन्वेस्टमेंट छोटे और बड़े दोनों निवेश के लिए बहुत आसान है अब आप समझ गये होंगे SIP Kya Hai? और कैसे काम करता है.

सही म्यूचुअल फंड का चुनाव 1 दिन करोड़ पति बना सकता है।

SIP स्टार्ट करने से पहले फण्ड का सही चुनाव करना बहुत जरुरी है. आइये जानते है कैसे इसका चुनाव करे सब से पहले आप का वित्तीय (Financial) लक्ष्य स्पष्ट होना चाहिए।अपने आये और financial के आधार पर अपना लक्ष्य सेट करना चाहिए। उसके बाद आप को शॉट टर्म या लॉन्ग के लिए इन्वेस्ट करना है ये पता होना चाहिए। रिस्क प्रोफाइल पता होना चाहिए। आप को कम रिस्क या जायदा रिस्क लेना है. अपने वित्तीय स्थिति देख कर अपनी रिस्क कैपेसिटी के आधार पर प्रोफाइल तय करें। ये सब जानकरी के आधार पे फण्ड का चुनाव कीजिये।

1 )फंड के परफॉर्मेंस को देखे
2 )फंड के नेट एसेट वैल्यू (NAV) देखे
3 )index के return के  साथ तुलना करें
4 )CAGR(compounded annual growth rate) चेक करे
5 )फण्ड मैनेजर को चेक करे उसका EXPRIANCE कैसा है ?और कब से काम कर रहा है?
6 )रेटिंग एजेंसी की रेटिंग जांच करे जिस फण्ड को आप खरीदना चाहते हो
7 )फण्ड का एग्जिट लोड चेक करे 1% या 1% से कम  हो तो अच्छा मन जाता है
8 )Expanse रेश्यो चेक करे ये भी 1 % से कम होना चाहिए
9 )लॉकिंग पेरिड्स चेक करे एक या दो इयर्स से ज्यादा नहीं होना चाहिए।
10 )शार्प रेशियो-शार्प रेशियो चेक करे जीतना ज्यादा शार्प रेश्यो उतना ज्यादा जोखिम माना  जाता है.जितना कम उतना अच्छा मन जाता  है. शार्प रेश्यो 1 से 2 के बिच में होना चाहिए तो अच्छा मन जाता है.

नियमित रिटर्न के लिए एसआईपी जरुरी।

1)निवेश के लिए टारगेट सेट करे
2)लगातार निवेश करते रहे और अपने टारगेट को फ़ोकस करे
3)लंबे समय तक निवेश करे
4)अपने आवश्कता के अनुसार फण्ड चुने किसी के कहने पे  निवेश न करे पहले आप खुद से जांचे
फिर निर्नय ले। या अपने सलाहकर की मदत ले।
5)निवेश के लिए एक उच्चतम राशि चुने जिसे से आपका वित्तीय प्रॉब्लम शार्ट आउट हो सके.
6)अपने पोर्ट फ़ोलियो के चेक करते रहे जिस फण्ड में आपने  निवेश किया है उस फण्ड को  track करते रहना चाहिए।और ये देखना चाहिए  की इस       फण्ड में सब कुछ ठीक चल रहा है की नहीं।

जानिए SIP का असली राज क्या है? और common गलतफैमी 

निचे के ये 5 point से आप ये भी जान सकते है SIP Kya Hai? और SIP के positive और Negative पॉइंट क्या है?

1 )SIP केवल छोटे निवेशकों के लिए होता है।
वास्तविकता:-SIP में आज बड़े और छूटे निवेशक निवेश करते है यह छोटे और बड़े दोने के लिए सुरक्षित और प्रभावी निवेश का विकल्प है।
2) SIP कम  return देता है।
वास्तविकता:-आज SIP सबसे बेहतर Return दे रहा है अगर आप अच्छे फण्ड का निवेश करते है तो आप को सालाना 20% तक का भी Return  मिल सकता है.और यह fixed deposit ,LIC और अन्य सभी से बेहतर Return  देता है ,बस यहा आप को थोड़ी रिस्क लेनी पर सकती है
3)SIP से आप केवल एक फण्ड में निवेश कर सकते है।
वास्तविकता: SIP से आप अलग अलग सेक्टर में और अलग अलग फण्ड में निवेश कर सकते है। जिस से आप का पोर्टफोलियो Diversified हो जाता है और रिस्क कम  हो जाता  है।
4) SIP में निवेशक के लिए अधिक पैसे की आवश्कता होती है।
वास्तविकता: SIP करने ‘के लिए Minimum 100 रुपये से भी स्टार्ट कर सकते है. इस में छोटे और बड़े निवेश अपने आर्थिक स्थिति के अनुसार SIP कर सकते हैं।
5 SIP करना कठिन है।
SIP में निवेश करना बहुत ही सरल है। Account खोलने से लेकर SIP स्टार्ट करने तक सारा प्रोसेस बहुत आसान है. आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरह से स्टार्ट कर सकते है.

सारांश:Conclusion

अब आप समझ चुके है की SIP Kya Hai? यह कैसे काम करता है। इसके नुकसान, और फायदे, SIP एक आधुनिक और प्रभावशाली Investment का एक तरीका है. जी निवेश को अच्छा Return देता है. यह निवेशकों को नियमित रूप से निवेश करने और अच्छे रिटर्न प्राप्त करने का एक आसान और सुरक्षित तरीका है। जिस से आप अपनी आर्थिक आपूर्ति को को सुरक्षित बना सकते है. इसमें लम्बे समय तक निवेश कर आप बचत कर सकते है. जिस में आप को विभिन्न फंड में इन्वेस्ट का औसर मिलता है और इससे आप का रिस्क कम हो जाता है.
यदि आप सही फण्ड का चुनाव कर या किसी फण्ड मैनेजर’की सलाह पे इन्वेस्ट करते है तो आप अपने सपनो साकार कर सकते है. और करोड़पति बन सकते है. निवेश करने से पहले विभिन्न निवेश विकल्पों की जांच करें और पूरी तरह चेक करें ताकि आप सही फंड चुन सकें निवेश की योजना बनाएं और अपनी वित्तीय लक्ष्यों के अनुसार निवेश करें। तो आप आज ही निवेश करे’ और आप सफलता की ओर एक कदम आगे बढ़ा सकते है।

अंततः, ध्यान देनी की ये बात है की जब भी आप निवेश करे या निवेशक करना चाहते है तो सब से पहले आप अच्छी तरह अध्ययन करे ले या आपने सलाहाकर का सलाह लेकर ही इन्वेस्ट करे क्यों की इस में भी जोखिम है आप को नुकसान भी हो सकता है।

FAQ  लोगो के पूछे गए प्रश्न
4 https://wealthbazzars.com/wp-content/uploads/2023/06/cropped-2-2.png

SIP क्या है ?

SIP का मतलब होता सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान। जिसमें निवेशक नियमित अंतराल पर अपना पैसा लंबे समय तक लगता है और अपने वित्तीय लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए लागातर invest करता है.और फण्ड को होल्ड कर के रखता है जिस से उससे  लम्बे समय में अच्छा Return  मिलता है.
उदाहरण के लिए
1. किसी म्यूच्यूअल फण्ड के फण्ड में SIP कर सकते है.
2. किसी एक स्टॉक में SIP कर सकते है.
3. अपने अनुसाकर दो ,पांच ,या उससे अधिक कंपनी के स्टॉक में बास्केट बनाकर SIP कर सकते है.
बास्केट के लिए Smallcase App उसे कर सकते है https://www.smallcase.com/

SIP के लाभ Hindi me?

SIP (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) एक निवेश करने का तरीका है जो नियमित अंतराल पर निवेश करने का माध्यम प्रदान करती है। यह एक सुरक्षित और सुविधाजनक तरीका है वित्तीय लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए वरदान साबित हो सकता है.
नियमित निवेश:-SIP नियमित इन्वेस्ट करने का मौका देती है। आप नियमित तरीके से इन्वेस्ट कर आप अपने financial लक्ष्य को प्राप्त कर सकते है.
सावधानीपूर्वक निवेश: -SIP आपको धीरे-धीरे निवेश करने की सलाह देती है। इसके माध्यम से, स्टॉक मार्किट के उच्च और निम्न रहने पर भी  आपका Return अच्छा मिल जाता है.
सामान्यज्ञान और सुविधाजनक: SIP आमतौर पर आसानी से उपलब्ध हो जाता है और निवेशकों को विभिन्न म्यूचुअल फंड्स और स्टॉक के बास्केट में निवेश करने की सुविधा प्रदान करता है।

क्या एसआईपी 5 साल के लिए अच्छा है?

एसआईपी (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) की अवधि आपके निवेश के लक्ष्यों और आर्थिक स्थिति पर निर्भर करेगी। अगर आप को लगता की हमरा लक्ष्य पांच साल में पूरा हो जाइएगा तो आप पांच साल के लिए SIP कर सकते है. लेकिन आप को इतने कम समय में compounding का पूरा लाभ नहीं मिलेगा. 10 साल की SIP अच्छा माना जाता है

SIP कितने साल का होता है?

SIP (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) की निश्चितअवधि निर्धारित नहीं होती है।निवेशक अपनी पसंद और आवश्यकता के अनुसार एक या अधिक सालों तक SIP जारी रख सकते हैं। अधिकांश  निवेशक लंबे समय तक के लये SIP  करते है क्यों की SIP लंबे समय में मुनाफा देती है.

SIP कब लेना चाहिए?

किसी विशेष काम के लिए पैसे की जरूरत: यदि आपके पास किसी विशेष लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पैसे की आवश्यकता है, जैसे घर खरीदना, शिक्षा के लिए,बच्चो की शादी के लिए ,या आप अपने बचो को पैसे गिफ्ट देने हो तो आपको जल्दी से SIP शुरू करना चाहिए।
दैनिक निवेश की अनुभव : SIP आपको नियमितता का अभ्यास देता है और आपको निवेश करने के लिए अनुभव प्रदान करता है। इसलिए, यदि आप निवेश में अनुभवी नहीं हैं, तो जल्दी से SIP शुरू करने चाहिए।
लम्बे समय के लिए निवेश का प्लान: SIP लम्बे समय में निवेश करने के लिए एक अच्छा  विकल्प होता है। यदि आप लंबी अवधि में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो जल्दी से SIP शुरू करें ताकि आपको लंबी अवधि में बेहतर फायदे हो सके।
बाजार समयावधि: SIP का मुख्य उद्देश्य आप के पैसे को वृद्धि करना. बाजार में लम्बे सयम तक इन्वेस्ट कर के पैसे को compounding करना। इसके लिए SIP करना चाहिए।

क्या मैं एसआईपी में प्रति माह 500 का निवेश कर सकता हूं?

हाँ, आप एसआईपी (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) में प्रति माह 500 का निवेश कर सकते हैं। आप चाहे तो 100, Wekly, Monthly देकर आप SIP स्टार्ट कर सकते है.

SIP करते समय क्या करना चाहिए?

1.निवेश के लिए लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए।
2.अपने रिस्क प्रोफ़ाइल का आकलन करना चाहिए।
3.निवेश करने का समय अंतराल निर्धारित करना चाहिए ।
4.निवेश राशि का निर्धारण करना चाहिए ।
5.अपने निवेश स्कीम का चयन करना चाहिए और निवेश सलाहकार की मदद लेना चाहिए।
6.नियमित निवेश का पालनकरना चाहिए करें।
7.अपने इन्वेस्टमेंट को की निगरानी करना चाहिए।

क्या मैं 6 महीने तक एसआईपी कर सकता हूं?

हाँ,आप 6 महीने के लिए भी SIP कर सकते है लेकिन इस में आपको कुछ लाभ या हानि हो सकता है. लेकिन SIP में ऐसा माना जाता है अगर आप दो साल से ज्यादा के लिए SIP करते है तो आप को अपने इन्वेस्टमेंट पर 15% से 20% तक का मुनाफा हो सकता है या फिर उसके आस पास का Return मिल सकता है. इस लिए आपके निवेश के लक्ष्य, आर्थिक स्थिति और आपकी वित्तीय योजना के आधार पर निर्धारित करें। लम्बे समय तक।

मैं एसआईपी से पैसे कैसे निकाल सकता हूं?

SIP से पैसे निकला बहुत आसान है , आप जब किसी भी AMC में या डेमेन्ट अकाउंट से SIP करते है। तो आप को एक APP मिलता है जिस से आप आसानी से पैसे निकाल सकते है

एसआईपी में मुझे प्रति माह कितना निवेश करना चाहिए?

SIP से आप को प्रति माह कितना निवेश करना चाहिए?ये आपके के,चार पॉइंट पे डिपेंड करता है.
1. वित्तीय लक्ष्य
2.आर्थिक स्थिति:
3.निवेशकीय प्रोफ़ाइल:
 4.बचत की समयावधि

अगर मैं 20 साल के लिए एसआईपी में 1000 रुपये का निवेश करूं तो क्या होगा?

यदि आप 20 साल के लिए हर माह एसआईपी करते है तो आप को एक बढ़ी हुई राशि मिलेगी. ये राशि आपके फण्ड के performance पे निर्भर करता है की आप किस तरह के फण्ड में SIP किया है.
उदहारण :- आप 1000 रुपए 20 साल तक एक अच्छे फण्ड में SIP करते हो अगर वह फण्ड सालाना 15% का Return देता है तो आपको 20 साल बाद
Rs. 1515955 (15.2 Lakhs) मिल सकता है या इससे भी अधिक मिल सकता है.
Amount Invested Rs. 240000 (2.4 Lakhs)
Wealth Gain Rs.1275955 (12.8 Lakhs)
Expected Amount Rs.1515955 (15.2 Lakhs)
SIP calculate करने के लिए इस लिंक पे क्लिक करे
https://sipcalculator.in/

एसआईपी के नुकसान क्या हैं?

1.निवेश पर मार्केट मूवमेंट का प्रभाव हो सकता है जिसे से आपका फण्ड negative या कम Return दे सकता है
2.किसी किसी फण्ड निवेश की अवधि होती है या लॉकिंग टाइम period होता है. अगर उस टाइम period से पहले फण्ड निकले हो तो आप को कुछ पेनल्टी भी देनी पड़ सकती है
3.स्टॉक मार्किट में negative न्यूज़ होना :-इस से शार्ट टर्म में आप के SIP में लॉस हो सकता लेकिन लम्बे समय में इसका असर कम हो जाता है.
4.अच्छे स्किम में इन्वेस्ट न करना :-यदि आप गलत या असामयिक स्कीम में निवेश करते हैं, तो आपको नुकसान हो सकता है। इस लिए फण्ड लेने से पहले आप अच्छी तरह समझ ले या आपने सलाहकर की सलाह ले. अन्यथा आपको नुकसान हो सकता है.

क्या एसआईपी 5 साल के लिए अच्छा है?

एसआईपी (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) की अवधि आपके निवेश के लक्ष्यों और आर्थिक स्थिति पर निर्भर करेगी। अगर आप को लगता की हमरा लक्ष्य पांच साल में पूरा हो जाइएगा तो आप पांच साल के लिए SIP कर सकते है. लेकिन आप को इतने कम समय में compounding का पूरा लाभ नहीं मिलेगा. 10 साल की SIP अच्छा मन जाता है.

SIP  से कितना रिटर्न मिलता है?

1.ये आप के निवेश और बाजार की चाल पे निर्भर करता है.
2.आपने कौन सा फण्ड चुना है निवेश के लिए ?
3.निवेश की अवधि क्या है?
4.स्टॉक बाजार की प्रवृत्ति मार्किट कंडीशन क्या है जब आप इन्वेस्ट कर रहे हो?
5.आप की निवेश की मात्रा क्या है?
 
 
For more information about me and my YouTube blog

https://youtu.be/dmXAo6Cnnuo?t=216

1 thought on “SIP Kya Hai?”

Leave a comment

शेयर मार्किट से कमाना बहुत आसान है ? Zomato share price target 2024,2025 ,2026 ,2027,2028 ,2030 ,2040 ,2045 ,2050, 2055 to 2060 Tata Motors के शेयरों में कटौती, Maruti Suzuki के स्टॉक में बढ़ोतरी, अगस्त बिक्री डेटा का असर।